शनिवार, 24 अगस्त 2013

जिन्हें नाज है हिन्द पर वो कहाँ हैं?

विश्व शांति सूचकांक द्वारा  वर्ष 2013 में किये गये एक सर्वे के अनुसार भारत दुनिया के सबसे हिंसक देशों में एक है। ब्राज़ील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीकी (ब्रिक) देशों की सूची में पड़ोसी देशों से अच्छे सम्बन्ध स्थापित करने में भारत का बेहद ख़राब स्थान है। व्यापार  के लिए उम्दा माहौल नाने में अंतिम स्थान है।  छोटे स्तर के घोटाले करने में भारत सबसे आगे है। कार्यकुशल सरकार के मामले में भारत का 4था स्थान है।
    किसी भी देश या समाज के जागरूक इंसान की कोशिश रहती है, कि देश में दंगे-फसाद या लड़ाइयाँ हो। लेकिन इस सर्वे के अनुसार शांति बनाये रखने की 162 देशों की सूची में भारत का 141वाँ स्थान है। वर्ष 2012 में आन्तरिक हिंसा के कारण 799  लोगों को अपनी जिंदगी से हाथ धोना पड़ा। हमारा देश शांति बनाये रखने में फिसड्डी साबित हुआ है। 
     इस सर्वे से यह बात भी सामने आयी कि भारत हिंसा से पीड़ित देशों जैसे इराक, अफगानिस्तान,पाकिस्तान और दक्षिण सूडान  के रास्तों पर कदम-ताल कर रहा है। भारत में भयानक तरीके से हिंसा और साम्प्रदायिक हिंसा के मामलों में इजाफा हुआ है। औसतन एक दिन में दो या दो से अधिक जिन्दगियाँ दंगों द्वारा निगल ली जाती हैं। यह बेहद चिंता-जनक  है। इतनी हिंसा के बावजूद देश के रहनुमाओं के कानों पर जूँ तक नही रेंगती है।
     पिछले साल बस्तर और छत्तीसगड़ जैसे आदिवासी बहुल  इलाकों में भयानक हिंसक घटनाओं में लोगों की जान चली गयी। देश में चुनाव के आते ही राजनीतिक पार्टियाँ साम्प्रदायिकता का जहर फैलाना शुरू कर देती हैं। भूख, महँगाई और बेरोजगारी से त्रस्त जनता को जाति-धर्म के झगड़ों में उलझाकर वोट बैंक के सौदागर अपनी कुर्सी पक्की करने के लिए दंगे-फसाद करवाते हैं और लाशों पर अपनी चुनावी रोटियाँ सेंकते हैं। गृह-मंत्रालय के मुताबिक 100 से ज्यादा साम्प्रदायिक दंगें सिर्फ जनवरी से अक्टूबर 2012 में हुए। जिनमें 34 लोगों की मौत हुई और 450 से ज्यादा लोग बुरी तरह  से घायल हुए। 
     असम के कोकराझार और आसपास के जिलों में जुलाई-अगस्त में हिंसक घटनाओं में 97 लोगों की जान चली गयीं और 4 लाख 85 हजार लोग विस्थापित हुए। विश्व शांति सूचकांक ने किसानों  की आत्महत्याओं को अपने आकड़ों में सम्मलित नहीं किया है। अन्यथा हमारे सामने देश की बहुत ही भयावह तस्वीर आयेगी।
     1990 में आर्थिक नीतियों के जरिये किसानों के हितों पर हमला किया गया। बहुराष्ट्रीय कम्पनियों और देशी-विदेशी धन्ना सेठों के हितो में नई नीतियां लागू की गयीं। सरकार की किसान विरोधी नीतियों के कारण  पिछले 20 सालों  में औसतन 35 किसानों ने प्रति दिन आत्महत्याएँ की। जीवन गुजारने  का विकल्प होने पर ही कोई इंसान आत्म्हत्या करता है। क्या यह  हमारे शासकों द्वारा गलत नीतियों के हथियारों से की गयीं हत्याएँ नहीं है?
     इतना ही नहीं पिछले साल प्रतिदिन औसतन 370 लोगों ने आत्महत्याएँ की। यह बात हर जिन्दा इंसान को शर्मसार कर देने के लिए काफी है कि उनके देशवासियों ने इतनी भारी संख्या में इस देश की व्यवस्था से पीड़ित होकर अपनी जिन्दगी ख़त्म कर ली
     किसी देश का नौजवान तबका ही उसका कर्णधार होता है। इसलिए देश का कार्यभार बनाता है कि वह नौजवान को सही दिशा दे। जिससे देश विकास, शांति और सम्पन्नता की राह पर आगे बढ़ सके। बाहरी लडाईयों के मुकाबले आंतरिक कलह में इजाफा हुआ है। आज देश में दंगे ऐसे दिख रहे हैं जैसे गन्दगी के ढूह पर उगे झाड़-झंखाड़। देश की शांति और एकता को जातिवाद, क्षेत्रवाद और साम्प्रदायिकता जैसे चूहे कुतर रहे हैं। देश में बढती मँहगाई और बेरोजगारी  नौजवानों को गलत मार्ग पर चलने के लिए विवश कर रहे हैं। देश की यह भयावह तश्वीर अफ्रीका के गरीब देशों की स्थिति से भी घिनौनी है।

जिन्हें इस देश पर नाज है वे लोग कहाँ हैं?


-ललित कुमार 



3 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी पोस्ट हिंदी ब्लॉग समूह में सामिल की गयी और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा कल - सोमवार- 26/08/2013 को
    हिंदी ब्लॉग समूह चर्चा-अंकः6 पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया आप भी पधारें, सादर .... Darshan jangra

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति। ।

    उत्तर देंहटाएं